भृतहरि गुफा

सम्राट विक्रमादित्य के बड़े भाई महाराजा भर्तृहरि ने नाथपंथ की दीक्षा ली और इसी स्थान पर साधना की । क्षिप्रा तट पर स्थित यह प्राचीन गुप्त बौद्धकालीन व परमारकालीन स्थापत्य रचना है । गुफा का प्रवेष मार्ग संकरा है अंदर गोपीचंदजी की प्रतिमा है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>